Thu. Feb 29th, 2024

मंगलौर के लहबोली गांव में हुआ हादसा
भट्टे की चिमनी में ईट भरते हुए हुई दुर्घटना
घायलों केा उपचार के लिए चिकित्सालय में कराया गया भर्ती

रुड़की। मंगलवार सुबह  मंगलौर कोतवाली के लहबोली गांव में ईंट भट्टे की दीवार अचानक गिर गई। इस दौरान आधा दर्जन से ज्यादा मजदूर मलबे के नीचे दब गए। अभी तक छह शव मलबे से निकाले जा चुके हैं। जबकि दो की हालत गंभीर है।
मिली जानकारी के अनुसार मंगलवार सुबह मंगलौर कोतवाली के लहबोली गांव में ईंट भटृे की दीवार अचानक गिर गई। इस दौरान आधा दर्जन से ज्यादा मजदूर मलबे के नीचे दब गए। मलबे से पांच शव बाहर निकाले जा चुके हैं। जबकि तीन की हालत गंभीर होने पर उन्हे अस्पताल पहुंचाया गया जहंा उपचार के दौरान एक अन्य मजदूर की भी मौत हो गयी है।
बताया जा रहा है कि सुबह ईंट पकाने के लिए चिमनी में ईंट भरते समय यह हादसा हुआ। मजदूर काम कर ही रहे थे कि दीवार अचानक भरभराकर गिर गई। इससे पहले कोई कुछ समझ पाता दीवार के पास खड़े मजदूर मलबे में दब गए। सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों द्वारा जेसीबी की मदद से राहत व बचाव कार्य शुरू किया गया। जो फिलहाल चल रहा है।
जानकारी के अनुसार, यह हादसा हरिद्वार के लहबोली गांव के निकट माजरा मार्ग पर स्थित एक ईंट-भट्ठे की दीवार गिरने से हुआ। दीवार के मलबे में 8 लोग दब गए थे, जिनमें से 6 की मौत हो गई। दो लोगों को किसी तरह बचा लिया गया। हालांकि, इस घटना में वे दोनों बुरी तरह से घायल हो गए हैं। उन्‍हें नजदीक के अस्‍पताल में भर्ती कराया गया है। इस घटना के बाद मौके पर अफरातफरी सी मच गई। मरने वाले सभी मजदूर बताए जा रहे हैं।
मंगलौर कोतवाली प्रभारी प्रदीप बिष्ट ने बताया कि अब तक पांच शव बाहर निकाले जा चुके हैं। जबकि तीन मजदूरों की हालत गंभीर होने पर उन्हे अस्पताल पहुंचाया गया जहंा उपचार के दौरान एक अन्य मजदूर की भी मौत हो गयी है। राहत व बचाव कार्य जारी है, स्थानीय प्रशासन के आला अधिकारी भी मौके पर मौजूद हैं।


हाथ सेंकने के दौरान हुआ हादसा
बताया जा रहा है कि यह हादसा उस वक्‍त हुआ जब सभी लोग अलाव में हाथ सेंक रहे थे। मालूम हो कि हरिद्वार में तापमान लुढ़कर नीचे चला गया है। लोगों को रजाई या फिर अलाव या आग का सहारा लेना पड़ रहा है। मंगलवार सुबह 7 बजे 8 लोग हाथ सेंक रहे थे। उसी वक्‍त ईंट-भट्ठे की कच्‍ची दीवार भरभरा कर गिर गई। मजदूर कुछ समझ पाते उससे पहले ही वह चपेट में आ चुके थे। इस हादसे में 5 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि एक ने अस्‍पताल में दम तोड़ा।

मृतकों के नाम
मुकुल (हरिद्वार)
अंकित (हरिद्वार)
बाबूराम (हरिद्वार)
जग्‍गी (मुजफ्फरनगर)
समीर (मुजफ्फरनगर)
साबिर (मुजफ्फरनगर)




डीएम  ने दिये ईंट भट्ठे की घटना की मजिस्टेªटी जांच के आदेश
मृतकों के आश्रितों को दी जायेगी दो-दो लाख रूपये की आर्थिक सहायता
हरिद्वार। जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल को जैसे ही मंगलवार की प्रातः लगभग 6 बजे आपदा प्रबन्धन के माध्यम से ग्राम लहबोली, तहसील रूड़की विकास खण्ड नारसन में ईंट भट्ठे में लोहे की प्लेट गिरने से उसके नीचे कई श्रमिकों के दबने की सूचना प्राप्त हुई तो उन्होंने आपदा प्रबन्धन अधिकारी, तहसील रूड़की, अग्निशमन विभाग आदि सम्बन्धित विभागों  को त्वरित गति से राहत व बचाव कार्य करने के निर्देश दिये तथा स्वयं घटना स्थल की ओर रवाना हुये। वहां पहुंचकर राहत व बचाव कार्यों का जायजा लेते हुये सम्बन्धित को दिशा-निर्देश दिये। डीएम ने यह भी निर्देश दिये कि घायलों का अच्छा से अच्छा उपचार किया जाये। उन्होंने कहा कि इस घटना में जो श्रमिक दिवंगत हुये हैं, उनके आश्रितों को दो-दो लाख रूपये की आर्थिक सहायता दी जायेगी।
जिलाधिकारी धीराज सिंह गर्ब्याल ने संयुक्त मजिस्ट्रेट रूड़की को ग्राम लहबोली में ईंट भट्ठे की लोहे की प्लेट गिरने से उसके नीचे कई श्रमिकों के दबने की घटना की मजिस्ट्रेटी जांच के निर्देश दिये हैं।
उल्लेखनीय है कि इस घटना में छह श्रमिकों तथा एक घोड़े की असामयिम मृत्यु हुई है तथा दो श्रमिक जो घायल हुये हैं, उन्हें रूड़की के विनय विशाल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उन्होंने घायलों का हालचाल भी जाना। इस मौके पर संयुक्त मजिस्ट्रेट रूड़की, एएसडीएम श्री विजयनाथ शुक्ल, तहसील प्रशासन, पुलिस प्रशासन, राहत बचाव टीम सहित सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *