Thu. Feb 29th, 2024

विजिलेंस ने सिडकुल कार्यालय से रिश्वत लेते रंगेहाथों दबोचा
देहरादून। विजिलेंस ने सिडकुल सितारगंज के सहायक लेखाकार को 9 हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों गिरफ्तार किया है। प्लांट के लिए रजिस्ट्री की एन.ओ.सी. उपलब्ध कराने के लिए आरोपी ने 9 हजार रूपये की रिश्वत ली थी।
उत्तराखंड विजिलेंस का भ्रष्टाचार के खिलाफ अभियान जारी है। विजिलेंस एक के बाद एक भ्रष्ट्र अधिकारियों को सलाखों के पीछे पहुंचा रही है। इसी क्रम में विजिलेंस हल्द्वानी की टीम ने उधमसिंह नगर के सिडकुल सितारगंज के सहायक लेखाकार को 9 हजार रूपये रिश्वत लेते रंगे हाथो गिरफ्तार किया गया है। शिकायतकर्ता ने सतर्कता अधिष्ठान कार्यालय पर आकर शिकायत की उन्होंने एल्डिको सिडकुल में 2 प्लाट के लिये आवेदन किया था, जिसका आंवटन होने एवं पूर्ण भुगतान करने के बाद भी रजिस्ट्री की एनओसी उपलब्ध कराने के एवज में आरएम सिडकुल, सितारगंज के कार्यालय में तैनात एकाउन्टेन्ट उमेश कुमार ने 9 हजार रूपये रिश्वत की मांग है। शिकायतकर्ता रिश्वत नहीं देना चाहता था, तथा भ्रष्ट कर्मचारी के खिलाफ कानूनी कार्रवाई चाहता था।
शिकायत पर सतर्कता अधिष्ठान सैक्टर हल्द्वानी के गोपनीय जाँच किये जाने पर प्रथम दृष्टया सही पाये जाने पर तत्काल ट्रैप टीम का गठन किया गया, टीम ने कार्रवाई करते हुए शुक्रवार को आरएम सिडकुल, सितारगंज के लेखाकार उमेश कुमार पुत्र ओम प्रकाश जोशी को शिकायतकर्ता से नौ हजार रूपये की रिश्वत लेते हुये रंगे हाथों सिडकुल कार्यालय सितारगंज में गिरफ्तार किया गया है। आरोपी से पूछताछ जारी है, इस प्रकरण में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के अन्तर्गत प्रकरण दर्ज कर अग्रिम अनुसंधान किया जायेगा।
निदेशक सतर्कता डा. वी. मुरूगेसन ने ट्रैप टीम को नकद पुरस्कार से पुरस्कृत करने की घोषणा की गयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *