Tue. May 28th, 2024

दून निवासी एक बुर्जुग का जला हुआ शव हरिद्वार में हुआ था बरामद
हरिद्वार। अज्ञात जले हुए शव की शिनाख्त करते हुए पुलिस ने उसके बेटे सहित अन्य परिजनों को हत्या के आरोप मेें गिरफ्तार कर लिया है। मृतक दून का रहने वाला था जो अपने पुत्री की ससुराल हरिद्वार (लक्सर)आया हुआ था।
मिली जानकारी के अनुसार बीती एक नवम्बर को कोतवाली लक्सर को सूचना मिली कि एक व्यक्ति का शव ग्राम हुसैनपुर के निकट गन्ने के खेतो मे पड़ा है जिसका चेहरा बुरी तरह जलाया हुआ है। सूचना पर कार्यवाही करते हुए पुलिस ने मौके पर पहुंच कर देखा तो एक व्यक्ति का शव अर्द्धनग्न अवस्था में गन्ने के खेतो के पास पडा हुआ था। जिसका चेहरा जलाया गया था। जिस कारण मृतक की पहचान करना सम्भव नहीं हो पा रहा था। जिस पर पुलिस ने प्रकरण की गम्भीरता को देखते हुए उसकी शिनाख्त के प्रयास शुरू कर दिये। पुलिस के अथक प्रयासों के बाद मृतक की शिनाख्त नन्दकिशोर (65) पुत्र मुन्नालाल निवासी नई बस्ती चन्द्र रोड थाना डालनवाला जनपद देहरादून के रूप में हुई। इस बीच पुलिस को जानकारी मिली कि ग्राम मखियाली कलां में विजयपाल पुत्र रामपाल के घर पर उक्त हुलिये का व्यक्ति 31 अक्टूबर की शाम को देखा गया था जिसके पश्चात विजयपाल एवं उसके परिवार वालो से गहनता से पूछताछ की गयी। पूछताछ में यह तथ्य प्रकाश में आया कि मृतक नन्दकिशोर पुत्र मुन्नालाल देहरादून का निवासी था जिसके दो पुत्र व दो पुत्रिया थी। मृतक की एक पुत्री पूजा की शादी विजयपाल के बडे लडके राहुल से हो रखी थी। मृतक शराब पीने के आदी व अपने परिवार के प्रति गैरजिम्मेदार था तथा जादूकृटोने का काम करता था। मृतक से परेशान होकर उसकी पत्नी अपनी बेटी पूजा के ससुराल ग्राम मखियाली कलां में में रहने लग गयी थी। मृतक का बडा बेटा रविन्द्र उर्फ बिटृू भी अपने पिता नन्दकिशोर के व्यवहार से काफी आहत था। पुलिस को पता चला कि 28 अक्टूबर को मृतक नन्दकिशोर अपनी पत्नी से मिलने ग्राम मखियाली कलां में अपनी बेटी के ससुराल में आ गया था जहां उसके द्वारा अपनी बेटी के सुसराल में भी शराब पीकर गाली गलौच व जादू टोने के कार्य प्रारम्भ कर दिये। जिसे विजयपाल व उसके लडके राहुल व विकास द्वाररा समझाया गया लेकिन वह अपनी हरकतो से बाज नही आया जिस कारण 31 अक्टूबर को राहुल द्वारा मृतक के बडे पुत्र रविन्द्र उर्फ बिटृू को रात्रि में अपने यहां देहरादून से बुलाया गया और फिर ग्राम मखियाली में चारो आरोपियों द्वारा नन्दकिशोर की हत्या कर शव को ठिकाने लगाने व उसकी पहचान छिपाने का षडयन्त्र रचा गया। जिसके चलते 31 अक्टूबर की रात 12 बजे घर के आंगन पर खाट में सो रहे नन्दकिशोर का गला रस्सी से घोटकर उससे शव को खेत में फैकंकर चेहरे को जला दिया गया। पुलिस ने आरोपियों की निशानदेही पर मृतक के कपडे व अन्य सामान बरामद किये गये है। आरोपियों के नाम रविन्द्र कुमार उर्फ बिटृू पुत्र नन्दकिशोर निवासी नई बस्ती चन्द्र रोड थाना डालनवाला देहरादून, विजयपाल पुत्र रामपाल निवासी ग्राम मखियाली कलां थाना कोतवाली लक्सर, राहुल पुत्र विजयपाल निवासी ग्राम मखियाली कलां व विकास पुत्र विजयपाल बताये जा रहे है। बहरहाल पुलिस ने उन्हे न्यायालय में पेश कर जेल भेज दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *