Fri. Jun 21st, 2024

तीन को शीतकालीन गद्दीस्थल मक्कूमठ में डोली होगी विराजमान
विधि विधान के साथ बंद किए गए कपाट
रुद्रप्रयाग। पंच केदारों में तृतीय केदार के नाम से प्रसिद्ध भगवान तुंगनाथ के कपाट शुभ लगनानुसार विधि-विधान, वेद ऋचाओं, महिलाओं के मांगल गीतों व स्थानीय वाद्य यंत्रों की मधुर धुनों व सैकड़ों भक्तों की जयकारों के साथ शीतकाल के लिए बंद कर दिये गये हैं। कपाट बन्द होने के बाद भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली कैलाश से रवाना होकर सुरम्य मखमली बुग्यालों में नृत्य करते हुए प्रथम रात्रि प्रवास के लिए चोपता पहुंची तथा दो नवम्बर को अंतिम रात्रि प्रवास के लिए भनकुण्ड पहुंचेगी तथा तीन नवम्बर को शीतकालीन गद्दीस्थल मक्कूमठ में विराजमान होगी तथा चार नवम्बर से भगवान तुंगनाथ की शीतकालीन पूजा विधिवत शीतकालीन गद्दी स्थल मक्कूमठ में शुरू होगी।
भगवान तुंगनाथ के कपाट बन्द होने के पावन अवसर पर 3001 तीर्थ यात्रियों ने दर्शन कर पुण्य अर्जित किया तथा पूरे यात्रा काल में 1 लाख 36 हजार 430 तीर्थ यात्रियों ने तुंगनाथ धाम में पूजा-अर्चना कर विश्व समृद्धि की कामना की। बुधवार को ब्रह्म बेला पर विद्वान आचार्यों द्वारा भगवान तुंगनाथ का महाभिषेक कर आरती उतारी मठापति राम प्रसाद मैठाणी की मौजूदगी में विद्वान आचार्यों ने भगवान तुंगनाथ के स्वयं-भू लिंग को ब्रह्म कमल, भस्म, चन्दन, पुष्प, अक्षत्र सहित विभिन्न पूजा सामाग्रियो से समाधि दी गयी तथा भगवान तुंगनाथ जगत कल्याण के लिए तपस्यारत हो गए। कपाट बन्द होने के बाद भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली ने मुख्य मन्दिर सहित सहायक मन्दिरों की परिक्रमा की तथा कैलाश से शीतकालीन गद्दी स्थल मक्कूमठ के लिए रवाना होकर प्रथम रात्रि प्रवास के लिए चोपता पहुंची। भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली के चोपता पहुंचने पर देश-विदेश के तीर्थ यात्रियों, स्थानीय व्यापारियों, जीप टैक्सी यूनियन व घोड़े खच्चर संचालकों द्वारा भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली का पुष्प वर्षा कर भव्य स्वागत किया गया गुरूवार को भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली विभिन्न यात्रा पड़ावों पर श्रद्धालुओं को आशीर्वाद देते हुए अंतिम रात्रि प्रवास के लिए भनकुण्ड पहुंचेगी तथा तीन नवम्बर को भगवान तुंगनाथ की चल शीतकालीन गद्दीस्थल मक्कूमठ में विराजमान होगी तथा चार नवम्बर से भगवान तुंगनाथ की शीतकालीन पूजा विधिवत शुरू होगी। डोली प्रभारी प्रकाश पुरोहित ने बताया कि तीन नवम्बर को भगवान तुंगनाथ की चल विग्रह उत्सव डोली के मक्कूमठ पहुंचने पर सै भोज का आयोजन किया जायेगा, जिसकी सभी तैयारियां शुरू कर दी गयी हैं। प्रबंधक बलवीर सिंह नेगी ने बताया कि भगवान तुंगनाथ के कपाट बन्द होने के पावन अवसर पर 1201 पुरूषों, 1105 महिलाओं, 605 नौनिहालों तथा 10 साधु सन्यासियों सहित 3001 तीर्थ यात्री कपाट बन्द होने के साक्षी बने तथा इस बार तुंगनाथ धाम में 1 लाख 36 हजार 430 तीर्थ यात्रियों के पहुंचने से नया कीर्तिमान स्थापित हुआ है तथा मंदिर समिति की आय में भी वृद्धि हुई है। इस मौके पर आचार्य लम्बोदर प्रसाद मैठाणी, अतुल मैठाणी, विनोद मैठाणी, अजय मैठाणी, विजय भारत मैठाणी, प्रकाश मैठाणी, चन्द्रमोहन बजवाल सहित मन्दिर समिति के अधिकारी, कर्मचारी, हक-हकूकधारी सहित सैकड़ों श्रद्धालु मौजूद थे।


केदार यात्रा महोत्सव का 6 नवंबर को होगा आगाज
रुद्रप्रयाग। केदारनाथ यात्रा के प्रमुख पड़ाव सोनप्रयाग में आगामी 6 नवम्बर को व्यपार मंडल के सौजन्य से आयोजित होने वाले केदार यात्रा महोत्सव की सभी तैयारियां जोरों पर हैं। पहली बार व्यपार मंडल सोनप्रयाग द्वारा केदार यात्रा उत्सव आयोजित किया जा रहा जिसको लेकर जनप्रतिनिधियों, व्यापारियों व ग्रामीणों में भारी उत्साह बना हुआ है। एक दिवसीय केदार यात्रा महोत्सव में उत्तराखण्ड के सुप्रसिद्ध लोक गायकों के सांस्कृतिक कार्यक्रमों की धूम रहेगी, साथ ही केदारनाथ यात्रा 2023 में यात्रा के दौरान उत्कृष्ट कार्य करने वाले व्यपारियों, अधिकारियों को सम्मानित किया जाएगा।
जानकारी देते हुए व्यपार मंडल अध्यक्ष अंकित गैरोला ने बताया कि 6 नवम्बर को केदार यात्रा उत्सव में जनपद प्रभारी मंत्री सौरभ बहुगुणा, केदारनाथ विधायक शैलारानी रावत, जिलापंचायत अध्यक्ष अमरदेई शाह, उद्योग व्यपार मंडल प्रदेश अध्यक्ष नवीन चंद्र वर्मा सहित सभी जनप्रतिनिधियों एवं विशिष्ट जनों को निमंत्रण दिया गया है। व्यपार मंडल सचिव अंकित भट्ट ने बताया कि प्रथम बार आयोजित केदार यात्रा महोत्सव में यात्रा के दौरान उत्कृष्ट कार्य करने वाले लोगों को सम्मानित किया जाएगा। वहीं व्यपार मंडल महामंत्री रजनीश गैरोला ने बताया कि बाबा केदारनाथ के कपाट बंद होने से पूर्व यह आयोजन किया जा रहा है, जिसमें तीर्थ यात्री भी हमारी संस्कृति से रुबरु होंगे। साथ ही सांस्कृतिक कार्यक्रमों की भी धूम रहेगी। व्यपार मंडल संरक्षक राम चन्द्र सेमवाल, सामाजिक कार्यकर्ता महेंद्र सेमवाल, भोपाल सिंह रावत, दलजीत गैरोला, विश्रवा भट्ट, देवेंद्र सेमवाल, कामाक्षी प्रसाद सहित सभी व्यपारियों ने क्षेत्र वासियों से केदार यात्रा उत्सव में सहभागिता का आह्वान किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *