Mon. Apr 22nd, 2024

पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने चैंकाया, मौत का कारण निकला आत्महत्या
शरीर पर न कोई चोट के निशान मिले, न हुआ सेक्सुअल असाॅल्ट


देहरादूनः उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में अपराध की घटनाएं दिनों-दिन बढ़ती जा रही है। ये मामले विधानसभा में भी उठते रहे हैं। शहर में घटे ताजा घटनाक्रम ने एक बार फिर आपराधिक घटनाओं को लेकर कई सवाल खड़े किए। लेकिन कुछ देर बार ही मामले ने नया मोड़ ले लिया। दरअसल, देहरादून के रेस कोर्स स्थित एक फ्लैट में नाबालिग लड़की की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई है। यह घटना विधायक आवास के पास स्थित फ्लैट में घटित हुई। इस फ्लैट में रहने वाले परिवार में एक 15 वर्षीय नाबालिग लड़की काम करती थी।
गुरुवार सुबह सूचना मिली कि लड़की ने फ्लैट में आत्महत्या कर ली है, लेकिन स्थानीय लोगों ने घटना को हत्या बताकर फ्लैट में जमकर हंगामा किया। बताया जा रहा है कि लड़की पास की ही बस्ती में रहती थी और वो यहां इस फ्लैट में काम करती थी। हालांकि, पुलिस प्रथम दृष्टया मामले को सुसाइड के रूप में ही देख रही थी। लेकिन आसपास के लोगों का कहना था कि यह मामला सुसाइड नहीं बल्कि हत्या से जुड़ा हुआ है। पुलिस ने मामले में परिवार (जहां वो लड़की काम करती थी) के कुछ लोगों को हिरासत में लिया है। वहीं, कुछ ऐसे वीडियो भी सामने आए हैं जहां कुछ लोग परिवार के लोगों को फ्लैट के अंदर पीट रहे हैं।
इस घटना के सामने आने के बाद विधानसभा सत्र के बीच से ही कांग्रेस के तमाम विधायक रेस कोर्स पहुंचे और यहां मौजूद पुलिस अधिकारियों से इस पूरी घटना की जानकारी ली। ईटीवी भारत से बात करते हुए नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने कहा कि यह पूरा मामला संदिग्ध नजर आता है। जिस तरह की स्थिति दिखाई दे रही है, उसे देखकर लगता है कि मामला आत्महत्या का ना होकर हत्या का है।
स्थानीय लोगों का कहना है कि मामले में जो घटनाक्रम हुआ है, उससे लगता है कि लड़की की हत्या की गई है। दरअसल, इस छात्रा की मौत सुबह ही होने की बात कही जा रही है। आरोप है कि पुलिस या परिजनों को इसकी जानकारी देने के बजाय परिवार (जहां वो लड़की काम करती थी) द्वारा छात्रा को अस्पताल में भर्ती कर दिया गया। यही नहीं, मृतक छात्रा के परिजनों को फौरन जानकारी देने के बजाय दोपहर 2 बजे उसकी मौत होने की बात बताई गई।
इस मामले में देहरादून के एसएसपी अजय सिंह ने पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट का खुलासा किया है। उन्होंने बताया कि डाक्टरों के पैनल द्वारा मृतका का पोस्टमॉर्टम करने के बाद रिपोर्ट में मौत का कारण आत्महत्या पाया गया है। साथ ही मृतका के शरीर पर कोई बाहरी चोटों के निशान नहीं पाए गए हैं और न ही सेक्सुअल असॉल्ट की बात रिपोर्ट में आई है। डाक्टरों के बयान दर्ज किए जा रहे हैं। सबूतों के आधार पर आगे की कार्रवाई की जा रही है।  एसएसपी अजय सिंह ने ये भी बताया कि डीवीआर से सीसीटीवी कैमरों की जांच करने पर पता चला कि मृतका सुबह लगभग 9ः27 बजे के आस-पास स्टूल लेकर बाथरूम की ओर जाती दिखाई दी। इसके बाद सुबह लगभग 10रू19 पर फ्लैट मालिक समेत 4-5 लोग लड़की को खोजते हुए बाथरूम की ओर जाते दिखाई दिए, जो लड़की को बाथरूम से वापस लाकर सीपीआर देने की कोशिश करते हुए दिखाई दे रहे हैं। फिलहाल पूरे मामले में मृतका के पिता की तहरीर पर फ्लैट मालिक के खिलाफ 78/24 धारा 302, 323, 354, 342 और 7ध्8 पॉक्सो एक्ट में मुकदमा दर्ज किया है। वित्त मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल और क्षेत्रीय विधायक विनोद चमोली ने मृतक बच्ची के परिजनों से मुलाकात की है। वित्त मंत्री और विधायक चमोली ने पीड़ित परिवार को 2 लाख रुपए राहत राशि देने का भी ऐलान किया है।



गलत फहमी में इंटेलिजेंस के जवान से भी की मारपीट
अंतिम संस्कार के लिए तैयार हुए परिजन
देहरादून। गुरूवार को दून में संदिग्ध हालत में हुई नाबालिग छात्रा की मौत मामले में पुलिस ने मृतका के परिजनों को उसके शव का अंतिम संस्कार करने के लिए मना लिया है। एतियात के तौर पर  शुक्रवार को भी मौके पर भारी पुलिस बल तैनात रहा। सुबह गलतफहमी में लोगों ने इंटेलिजेंस के जवान के साथ मारपीट कर डाली। किसी तरह से सूझबूझ के साथ मामले को नियंत्रण में किया गया।
मृतक के परिजन इस मामले में निष्पक्ष कार्रवाई की मांग करते हुए पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सार्वजनिक करने की मांग कर रही है। गहमागहमी के बीच पुलिस ने परिजनों को मनाया और शव का अंतिम संस्कार करने के लिए परिजनों को साथ ले गए। नाबालिग छात्रा की मौत के मामले में पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सामने आ चुकी है। उधर परिजनों और स्थानीय लोगों में छात्रा की मौत से भारी आक्रोश है। आम लोग लगातार पुलिस की निष्पक्षता पर सवाल खड़े करते रहे हैं। हालांकि छात्रा की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में किसी तरह की कोई गंभीर चोटें या दुराचार की बात सामने नहीं आई है। लेकिन परिजन लूथरा परिवार पर छात्रा के साथ मारपीट करने की बात कहते हुए आरोपियों पर कठोर कार्रवाई की मांग करते रहे हैं। स्थानीय लोग सुबह से ही मृतक छात्रा के घर पर डटे रहे। इस गहमागहमी में इंटेलिजेंस के एक जवान जो कि इस घटना की रिपोर्ट कार्यालय में दे रहा था, उसे सुबह के समय लोगों ने घेर लिया और मारपीट भी की। लोगों में इस बात को लेकर आक्रोश था कि पुलिस इस मामले में गलत रिपोर्ट आगे दे रही है। इसी गलतफहमी के कारण इंटेलिजेंस के जवान को क्षेत्रीय लोगों ने घेर कर उसके साथ मारपीट की। इसके बाद घटना की जानकारी मिलने के बाद इंटेलिजेंस के तमाम जवान यहां पर पहुंच गए। साथ ही पुलिस भी यहां पर पहुंच गई और हालात को नियंत्रण में लिया। कई घंटे की मशक्कत के बाद परिजनों को मनाया जा सका। उसके बाद एंबुलेंस बुलाकर शव को अंतिम संस्कार के लिए ले जाया गया।



नाबालिग उत्पीड़न के मामले का महिला आयोग ने लिया संज्ञान,जांच के आदेश
देहरादून। गुरूवार को देहरादून के पाॅश इलाके रेसकोर्स में नाबालिग की संदिग्ध अवस्था में मौत व सेलाकुई में नाबालिग से दोस्ती व दुष्कर्म के मामले का उत्तराखंड राज्य महिला आयोग ने संज्ञान लिया है। इस मामले में आयोग की अध्यक्ष कुसुम कंडवाल ने एसएसपी व डीआइजी से वार्ता कर जांच के निर्देश दिए हैं।आयोग की अध्यक्ष ने बताया कि डीआइजी पी रेणुका से वार्ता के दौरान उन्होंने नाबालिग किशोरी की मौत के कारण की स्पष्ट जांच करने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा एसएसपी को भी कहा यदि नाबालिग ने यदि आत्महत्या नहीं की तो इसके कारणों की जांच कर आरोपितों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाए।इसमें सभी तथ्यों की स्पष्ट जांच हो। साथ ही नाबालिग से इस प्रकार से अपने फ्लैट में नौकरी करवाने वालों व उसके माता पिता के विरुद्ध भी धाराओं में मामला लिखा जाए।आयोग की अध्यक्ष ने सेलाकुई निवासी मुस्लिम युवक ने इंस्टाग्राम पर आठवीं कक्षा की किशोरी को दोस्ती की आड़ में बहला फुसला कर दुष्कर्म के मामले में एसओ सेलाकुई व एसएसपी देहरादून वार्ता कर आरोपितों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए।
एसएसपी ने जानकारी देते हुए बताया कि मामले के आरोपित फरमान को पोक्सो के अंतर्गत गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। इस मामले में पीड़िता ने अपने माता पिता के साथ सहित आयोग अध्यक्ष कुसुम कंडवाल से कार्यालय में मुलाकात की।
जिसमें उन्होंने बताया कि आरोपित उसे अपने परिचित आटो रिक्शा से एक कमरे में ले गया। जहां उसने दुष्कर्म किया। पीड़िता ने बताया कि वहीं एक महिला भी थी जो कि ठीक नही थी।


युवती की संदिग्ध मौत में दो गिरफ्तार
देहरादून। रेसकोर्स मे फ्लैट के अंदर संदिग्ध परिस्थितियों में हुई युवती की मौत पर पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। रेसकोर्स क्षेत्रान्तर्गत संदिग्ध परिस्थितियों में हुई युवती की मृत्यू के सम्बन्ध में उसके परिजनों की तहरीर के आधार पर थाना नेहरू कालोनी में धारा 302, 323, 354, 342 भादवि तथा 7/8 पोक्सो एक्ट व 3(क)4 बाल श्रम प्रतिशेध अधिनियम 1986 पंजीकृत किया गया था। अभियोग की विवेचना के दौरान पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृत्यू का कारण आत्महत्या होना पाया गया, साथ ही मृतका के शरीर पर कोई चोट के निशान नहीं पाये गये और न ही उसके साथ सैैक्सुआल असाॅट का होना पाया गया। घटना स्थल से कब्जे में ली गई डीवीआर से सीसीटीवी कैमरों का अवलोकन करने पर मृतक बालिका अकेले स्टूल लेकर बाथरूम की ओर जाती दिखाई दी तथा कुछ समय पश्चात मकान मालिक अभिषेक लूथरा व  अन्य लोग बालिका को ढूंढते हुए बाथरूम की ओर जाते तथा उसे बाहर लाकर प्राथमिक उपचार देते हुए दिखाई दिये।  पोस्टमार्टम रिपोर्ट तथा अन्य साक्ष्यों के अवलोकन पर शुक्रवार को दो आरोपियों  अभिषेक लूथरा उर्फ राजा पुत्र विक्रम लूथरा व  राजीव कुमार पुत्र राकेश को धारा 305,323, 342, 120 बी तथा 3/14 बाल श्रम प्रतिषेध अधिनियम 1986 में गिरफ्तार किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *