Mon. Apr 22nd, 2024

दस लक्षणों के पालन से मनुष्य को मिलती है मुक्ति

देहरादून। पर्यूषण पर्व पर गुरूवार को शहर के सभी जैन मंदिरों में पूजा अर्चना की गई जिसमें गांधी रोड स्थित श्री दिगंबर जैन पंचायती मंदिर जैन भवन में 105 आर्यिका आनंदमती माताजी के सानिध्य में पूजा अर्चना एवं सर्वप्रथम भगवान का अभिषेक एवं शांति धारा का सौभाग्य संदीप जैन आदित्य जैन, प्रक्षाल जैन मेरठ, अमित जैन, आशुतोष जैन हरिद्वार को एवं पांडुकशिला पर भगवान का प्रथम कलश एवं शांति धारा करने का सौभाग्य अरुण जैन को प्राप्त हुआ।
मीडिया संयोजक मधु जैन ने बताया कि दशलक्षण पर्व साल में तीन बार मनाया जाता है लेकिन मुख्य रूप से यह पर्व भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी से लेकर चतुर्दशी तक मनाया जाता है। जैन धर्मानुसार दस लक्षणों का पालन करने से मनुष्य को इस संसार से मुक्ति मिल सकती है। सभी जिन मंदिरो मे श्री जी की महाआरती की गई। इसके पश्चात पूज्य आर्यिका आनंदमति माताजी एवं क्षुल्लकरत्न समर्पण सागर जी महाराज के सानिध्य में रंगारंग संस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रचना लोकेश जैन का उत्सव समिति की ओर से स्वागत किया गया इसके पश्चात सीमा आशीष जैन ने दीप प्रज्वलन किया। महिला जैन मिलन मूकमाटी की ओर से रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम किया गया। कार्यक्रम का प्रारंभ महावीर प्रार्थना से किया गया उसके बाद अरिहंतो,सिद्धों, मुनियों की वंदना की गई। कार्यक्रम में मीडिया संयोजक मधु जैन, सचिन जैन, जैन समाज कोषाध्यक्ष अनिल जैन, जैन भवन के मंत्री संदीप जैन, कोषाध्यक्ष मनोज जैन, नरेश चंद जैन, प्रवीण जैन, अजित जैन, अमित जैन,जैन मिलन मूकमाटी की अध्यक्षा संगीता जैन, मंत्री पूनम जैन आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *