Wed. Jul 17th, 2024

बीमार महिला को डोली में रख 5 किमी पैदल चले ग्रामीण


हल्द्वानी। उत्तराखंड को बने 23 साल हो चुके हैं कई सरकारें आई और गईं। सभी सरकारों ने लोगों को सुविधा उपलब्ध करने की बड़े-बड़े दावे तो किये लेकिन दावे हवाई निकले। नैनीताल जिला मुख्यालय से महज 15 किलोमीटर दूर उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय एनडी तिवारी के गृह क्षेत्र धारी के पदमपुरी का एक वीडियो इसकी पुष्टि कर देगा।
जो वीडियो सामने आया है उसमें सड़क के अभाव में ग्रामीण बीमार महिला को डोली से पैदल ले जाते दिख रहे हैं। करीब 5 किलोमीटर दूर डोली से कंधे पर उठाकर सड़क मार्ग तक ले गए। इसके बाद महिला को अस्पताल पहुंचाया गया। बताया जा रहा है कि धारी ब्लॉक की पदमपुरी क्षेत्र के ग्राम पंचायत बबियाड़ के बिरसिंग्या में महिला की तबीयत बिगड़ने के बाद गांव तक सड़क नहीं होने से डोली के सहारे पांच किमी दूरी तय कर महिला को मुख्य मार्ग तक लाना पड़ा। जहां महिला को पदमपुरी अस्पताल ले जाया गया। इस दौरान ग्रामीणों ने सरकार और सिस्टम पर सवाल खड़े करते हुए अपनी नाराजगी व्यक्त की है। उनका कहना है कि बिरसिंग्या के ग्रामीण आजादी के बाद से सड़क निर्माण की मांग करते आ रहे हैं, लेकिन कोई सुध नहीं ले रहा है। सड़क नहीं बनने से ग्रामीणों में सरकार, शासन-प्रशासन, लोनिवि और वन विभाग के प्रति नाराजगी है। पूर्व में तत्कालीन डीएम सविन बंसल ने पैदल गांव पहुंचकर जनता दरबार में सड़क निर्माण का आश्वासन दिया था। लेकिन आज तक उनके गांव तक सड़क मार्ग नहीं पहुंचा।
तल्लानागपुर पट्टी के धौलसारी के ग्रामीण सड़क सुविधा न मिलने से काफी निराश और मायूस हैं। कई बार शासन-प्रशासन के समक्ष अपनी मांग रखने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है। ग्रामीणों ने वर्ष 2019 में लोकसभा चुनाव के दौरान भी अपना विरोध दर्ज किया था। तब प्रशासन और लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता ने उन्हें भरोसा दिलाया था कि जल्द ही सड़क का निर्माण कर लिया जाएगा। मगर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है। बुधवार को आक्रोशित ग्रामीणों का एक शिष्टमंडल लोनिवि कार्यालय पहुंचा। उन्होंने सबसे पहले विभाग के खिलाफ नारेबाजी की। फिर अपनी मांग को लेकर लोनिवि के ईई इन्द्रजीत बोस से वार्ता की। ग्रामीणों ने चेतावनी दी कि यदि इसके बाद भी कार्रवाई नहीं की गई तो बड़ा आंदोलन करेंगे। लोनिवि के ईई इन्द्रजीत बोस ने ग्रामीणों को एक माह में सड़क पर सकारात्मक कार्रवाई करने का भरोसा दिया।


ग्रामीणों ने दी लोकसभा चुनाव बहिष्कार की चेतावनी
हल्द्वानी। क्षेत्र के रमेश चंद्र टम्टा ने कहा कि सड़क की मांग को लेकर पिछले कई सालों से सरकार और सिस्टम से गुहार लगा चुके हैं, लेकिन आज तक सड़क नहीं बनी। सड़क नहीं बनने से युवा पलायन करने को मजबूर हैं। जल्द सड़क नहीं बनने पर ग्रामीणों ने आगामी लोकसभा चुनाव का बहिष्कार करने की चेतावनी दी है। ग्रामीणों का कहना है कि सड़क के लिए सरकार द्वारा कई तरह की योजनाएं चलाई जा रही हैं। लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है। सड़क नहीं होने के चलते जंगली जानवरों का भी खतरा बना रहता है। ग्रामीणों ने सरकार और प्रशासन से गांव को जोड़ने वाली सड़क को जल्द से जल्द बनाने की मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *