Fri. Jun 21st, 2024

पेयजल संकट पर उत्तरकाशी डीएम ने ली बैठक
उत्तरकाशी। उत्तराखंड में एक तरफ भीषण गर्मी पड़ रही है तो वहीं दूसरी ओर पेयजल संकट भी गहराने लगा है। चारधाम यात्रा मार्ग के कई मुख्य पड़ावों पर इस समय पानी की किल्लत चल रही है, जिसमें से एक जगह यमुनोत्री धाम यात्रा मार्ग का मुख्य पड़ाव बड़कोट नगर है। यहां पेयजल की समस्या को देखते हुए उत्तरकाशी जिलाधिकारी मेहरबान सिंह बिष्ट ने अधिकारियों को तत्काल पेयजल टैंकर की संख्या बढ़ाने के निर्देश दिए है। वहीं, दोबाटा में नलकूप के लिए आज ही विद्युत संयोजन देकर इसे तुरंत चालू कराने के निर्देश दिए हैं। इसके अलावा सिलक्यारा टनल में रिस रहे पानी को टेप कर बड़कोट के लिए जलापूर्ति करने की संभावना तलाशने के भी निर्देश दिए।
दरअसल, बीते दिन ही मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने उत्तरकाशी जिले का दौरा किया था और चारधाम यात्रा की व्यवस्थाओं का जायजा भी लिया था। इस दौरान कई लोगों ने सीएम धामी के सामने पेयजल समस्या का मसला उठाया था। भेंटकर्ताओं ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि यात्रा मार्ग के इस प्रमुख पड़ाव पर बड़ी संख्या में यात्रीगण ठहरते हैं, लेकिन इन दिनों पर्याप्त जलापूर्ति न हो पाने के कारण लोगों को काफी परेशानी हो रही है और यात्रा व्यवसाय भी प्रभावित हो रहा है।
इस संबंध में मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी को क्षेत्र के लोगों के साथ बैठक कर समस्या का तात्कालिक समाधान कराए जाने की अपेक्षा की थी। इसी सिलसिले में जिलाधिकारी डॉ मेहरबान सिंह बिष्ट ने जल संस्थान व यूपीसीएल के अधिकारियों और क्षेत्र के अनेक प्रमुख लोगों की बैठक लेकर ब़ड़कोट की पेयजल समस्या के समाधान के बारे में विचार-विमर्श किया।
जिलाधिकारी ने कहा कि नगर के लिए प्रस्तावित पेयजल योजना को स्वीकृति देने के लिए शासन को लिखा गया है। यह काफी अधिक लागत वाली बड़ी परियोजना है, जिस पर कुछ समय लग सकता है। लिहाजा नगर की पेयजल समस्या का तात्कालिक समाधान जरूरी है।
जिलाधिकारी ने कहा कि यात्राकाल को देखते हुए इन दिनों नगर में काफी अधिक संख्या में यात्रीगण भी ठहरते हैं, लिहाजा यहां जलापूर्ति सुचारू और पर्याप्त होना जरूरी है। अधिशासी अभियंता जल संस्थान ने बताया कि इन दिनों पानी की किल्लत के चलते चार टैंकरों से नगर में पानी की आपूर्ति की जा रही है। जिलाधिकारी ने टैंकरों की संख्या तुरंत बढाए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि अगर इसके लिए धनराशि की आवश्यकता होगी तो वह स्वीकृत कर दी जाएगी।
जिलाधिकारी ने नगर की प्रस्तावित पेयजल योजना के नियोजन के लिए यात्राकाल में बड़ी संख्या में आने वाली फ्लोंटिंग जनसंख्या और भविष्य के विस्तार का भी ध्यान रखे जाने पर जोर देते हुए कहा कि तात्कालिक समाधान के तौर पर टैंकरों से जलापूर्ति करने के साथ ही दोबाटा में स्थापित किए जा रहे नलकूप को तुरंत संचालित किया जाय। इसके लिए विद्युत कनेक्शन आज ही दे दिया जाय। जिलाधिकारी ने सिलक्यारा टनल में रिस रहे पानी को टेप कर बड़कोट के लिए जलापूर्ति करने की संभावनाओं की भी पड़ताल किए जाने के निर्देश दिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *