Wed. Jun 19th, 2024

यात्रा में हरीश रावत-यशपाल आर्य हुए शामिल
वीआईपी की नाम सामने लाने की उठाई मांग
देहरादून। उत्तराखंड के चर्चित अंकिता भंडारी हत्याकांड को लेकर कांग्रेस ने भाजपा सरकार के खिलाफ फिर से मोर्चा खोल दिया है। मंगलवार को अंकिता भंडारी को न्याय दिलाने की मांग को लेकर कांग्रेस जनों ने हाथीबड़कला से लेकर गांधी पार्क तक अंकिता भंडारी न्याय यात्रा निकाली। कांग्रेस की यात्रा में पूर्व सीएम हरीश रावत और नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य शामिल हुए। हरीश रावत ने कहा कि यह यात्रा अंकिता समेत उन बेटियों को समर्पित है, जो बेटियां अन्याय और शोषण का शिकार हो रही हैं।
हरीश रावत ने कहा, सुनवाई के दौरान एक गवाह ने कोर्ट में कहा कि उसे रिजॉर्ट में बुलडोजर चलाने का आदेश दिया गया था। उन्होंने सवाल उठाया कि रिजॉर्ट में बुलडोजर चलाने का मतलब कोई साक्ष्य मिटाना चाहता था। हत्या के साक्ष्यों को नष्ट करना आपराधिक कृत्य है। हरीश रावत ने मांग उठाते हुए कहा कि गवाह के बयान के आधार पर बुलडोजर चलाने का आदेश देने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज होना चाहिए। एडिशनल चार्जशीट दायर करके उनको ट्रायल के लिए कोर्ट में पेश किया जाना चाहिए।
नेता प्रतिपक्ष यशपाल आर्य ने अंकिता भंडारी मामले में अपनी तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि अंकिता को रिजॉर्ट मालिक की ओर से वीआईपी को विशेष सेवा देने के लिए बाध्य किया गया। लेकिन जब वह इनकार कर देती है तो उसकी हत्या कर दी जाती है। उन्होंने कहा कि अंकिता के परिजनों ने जिस वीआईपी के नाम का उल्लेख किया है, वह भाजपा में शीर्ष पद पर बैठा व्यक्ति है। यशपाल आर्य का कहना है कि हम अंकिता को न्याय दिलाने के लिए संघर्षरत हैं और चाहते हैं कि उस व्यक्ति का चेहरा बेनकाब हो।


अंकिता के माता-पिता ने लिया वीआईपी का नामः हरीश रावत
देहरादून। हरीश रावत ने कहा कि अंकिता भंडारी ने अपनी व्हाट्सएप चैट में इस बात का उल्लेख किया था कि किसी वीआईपी को सर्विस दिए जाने के लिए उसपर दबाव बनाया जा रहा है। लेकिन उसके बाद अंकिता की हत्या कर दी जाती है। अंकिता के माता-पिता ने उस वीआईपी का नाम लिया है। हरीश रावत ने कहाव कि चाहे कितना भी बड़ा व्यक्ति क्यों ना हो, उसके खिलाफ जांच की जानी चाहिए। ऐसे में धामी सरकार को प्राथमिकता के आधार पर उस वीआईपी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराते हुए जांच करनी चाहिए। ताकि जांच के बाद तथ्य सामने आ सके। इस मामले में जो भी वीआईपी है, उसका नाम सामने लाना भी सरकार का कर्तव्य बनता है।

फोटो   डी 2
अंकिता भंडारी हत्याकांड को लेकर कांग्रेस का हल्ला बोला
हरिद्वार। धर्मनगरी हरिद्वार में बुधवार को कांग्रेस ने अंकिता भंडारी को न्याय दिलाने के लिए ऋषिकुल चौराहे से न्याय यात्रा निकाली। न्याय यात्रा आर्यनगर पर समाप्त हुई। इस दौरान कांग्रेस महानगर अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी ने कहा आज इतना समय बीत जाने के बावजूद भी उत्तराखंड की बेटी अंकिता भंडारी को न्याय नहीं मिला है। अब तक वीआईपी का नाम भी सामने नहीं आया है। उन्होंने कहा उत्तराखंड की बेटी को न्याय दिलाने के लिए कांग्रेस सड़कों पर उतरी है। उन्होंने कहा आने वाले समय में इस आंदोलन को उग्र किया जाएगा।
कांग्रेसी नेता विमला पांडे ने कहा जहां भी बेटी और महिलाओं के साथ इस तरह का व्यवहार होता है वहां कोई ना कोई बीजेपी से जुड़ा शख्स इस तरह के कृत्यों में जरूर सम्मिलित होता है। अंकिता भंडारी केस में भी यही हुआ। उन्होंने कहा भाजपा के एक वीआईपी का नाम छुपाने के लिए अब तक अंकिता को न्याय नहीं मिल पाया है। जिसके कारण कांग्रेस को अब सड़कों पर उतरना पड़ा है।
विमला पांडे ने कहा जब तक अंकिता भंडारी को न्याय नहीं मिलेगा तब तक कांग्रेस लगातार प्रदर्शन करती रहेगी। विमला पांडे ने कहा भाजपा की करनी और कथनी में बहुत अंतर है। बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ का नारा देने वाली सरकार के समय में ही बेटियों के साथ इस तरह के कृत्य होते हैं। उन्होंने कहा कांग्रेस पूरी ताकत से इस मामले में जुटी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *